Horoscope Explorer

मिथुन राशि के लिए कुम्भ राशि में गुरू का गोचर (Impact of Jupiter’s Transit Into Aquarius on Gemini Sign)

गुरू अपनी चाल चलते हुए शनि की राशि कुम्भ में प्रवेश करने पर मिथुन राशि के जातकों के जीवन में नए बदलाव लाने वाले होंगे. गुरू के घर परिवर्तन पर सभी लोगों की निगाह टिकी रहती हैं क्योंकि, यह एक शुभ ग्रह है जो विवाह, संतान, धर्म, अध्यात्म, विद्या और बुद्धि का कारक माना जाता है. इसके राशि परिवर्तन से सभी व्यक्तियों को उनकी राशि के अनुरूप अलग अलग परिणाम प्राप्त होगा. मिथुन राशि वालों को भी गुरू का राशि परिवर्तन कई विषयों में प्रभावित करेगा.

गोचर की ये स्थिति जातक के लिए स्थिति बेहतर और मिले जुले फलों को देने वाली होगी. इस स्थिति में जातक के लिए बहुत आवश्यक होगी. इस समय में आपको अपने आस-पास के माहौल का सहयोग भी मिल सकता है. आपके लिए ये समय थोड़ी राहत लाने वाला हो सकता है. एक नकारात्मकता जो लम्बे समय से चली आ रही थी वह अब धीरे-धीरे कम होने लगेगी. ये समय आपको मजबूती के साथ खड़े होने हिम्मत देगा और आप अपने भाग्य के सहयोग से जीवन में बेहतर चीजों को पा सकने में सक्षम हो सकेंगे.


आजीविका पर गुरू के घर परिवर्तन का प्रभाव (Jupiter’s Transit and Business for Gemini)

जन्म राशि से नवम घर में गुरू का गोचर होना आपके लिए बहुत ही शुभ फलदायी है. आप उर्जावान रहेंगे और अपना कार्य कुशलता पूर्वक सम्पन्न कर सकेंगे जिससे आपको सम्मान मिलेगा तथा पद एवं प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी. यह आपके मनोबल को बढ़ाएगा. कार्य क्षेत्र में किसी विशेष परियोजना को लेकर आपको विदेश यात्रा का भी अवसर प्राप्त होगा, आपकी यह यात्रा सफल रहेगी. इन दिना किसी महत्वपूर्ण योजनाओं की शुरूआत भी कर सकते हैं, इसके लिए भी यह समय अच्छा रहेगा.

जॉब से जुड़े मामले में आपको लोगों के साथ काम करने में थोड़े सहायक भी हो सकेंगे. इस समय जो लोग काम को लेकर लम्बे समय से विचारशील रहे हैं उन्हें इस दौरान किसी नए स्थान या अपने स्थान पर ही पद वृद्धि मिलने की उम्मीद भी दिखाई देती है. कुछ काम बाहरी रुप से भी मिल सकता है. आजिविका को बढा़ने के स्त्रोत सामने आएंगे. एक से अधिक अवसर भी मिलेंगे जिसमें शामिल होकर लाभ प्राप्त किया जा सकता है.


आर्थिक विषय में गुरू के घर परिवर्तन का प्रभाव (Jupiter’s Transit and Finance for Gemini)

आर्थिक विषयों में यह समय आपके लिए बहुत ही अच्छा रहेगा. इन दिनों आपकी आय में वृद्धि होगी, लाभ के भी कई अवसर प्राप्त होंगे. आप चाहें तो इन दिनों अपनी समझदारी से शेयर बाज़ार से भी लाभ उठा सकते हैं. बेहतर अनुभव व होशियारी से रीयल इस्टेट में निवेश किया गया धन आपको लाभ दिला सकता है.

संपत्ति अथवा परिवार के किसी वरिष्ठ सदस्य की ओर से लाभ की उम्मीद अधिक दिखाई देती है. अगर कोई धन कमाने और खर्च इत्यादि करने के लिए कोई प्लान सोचा होगा तो उसे अब उपयोग में लाने की कार्यवाही भी की जा सकती है. आपको अपने भाई बंधुओं की ओर से भी मदद मिल सकेगी. इस मदद से जातक अपनी इच्छाओं को पूरा करने में भी सफल हो सकेगा. यह गोचर का समय जातक को अपने भविष्य के निर्माण में भी बहुत सकारात्मक रुख देने वाला हो सकता है.


घर-परिवार के क्षेत्र में प्रभाव

इस समय के दौरान फैमली में थोड़ा सकून और परिवार में एक दूसरे के साथ समय बिताने के मौके होंगे. रिश्तों को सुधारने के लिए भी ये एक अच्छा समय होगा. यदि कोई विवाद लम्बे समय से परेशान किए हुए थ अतो अब उस विवाद को सुलझाने में लोग भी आपके सहायक के रुप में ही सामने आएंगे.


अन्य विषयों में गुरू के घर परिवर्तन का प्रभाव (Jupiter’s Transit and Family for Gemini)

स्वास्थ्य के विषय में गुरू का कुभ्म राशि में गमन करना आपके लिए सुखद रहेगा. अगर लापरवाही से बचेंगे और जरूरत के अनुसार चिकित्सक से परमर्श लेंगे तो आमतौर पर स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्याओं से बचे रहेंगे. अगर आदलती मामलों में उलझे हुए हैं तो मामला सुलझ सकता है तथा अदालत का फैसला आपके पक्ष में रह सकता है. अगर शादी की बात चल रही है तो इस अवधि में आपका विवाह सम्पन्न होगा.

इस समय धार्मिक पक्ष भी मजबूती पाता है. इस दोरान किसी ऎसे स्थान पर जाने के मौके मिलते हैं जो जातक को आत्मिक बौद्धिक दृष्टि से शुभ एवं सकारात्मक दृष्ट प्रदान करें. घर पर कोई पूज अपाठ या विवाह इत्यादि धार्मिक व मांगलिक कार्यों में व्यस्तता बढ़ सकती है. तीर्थ यात्रा पर जा सकते हैं. संभावना इस बात की भी है कि आप किसी शुभ कार्य हेतु लम्बी दूरी की यात्रा पर जाएंगे.

इस समय जातक को कुछ पवित्र धर्म स्थलों पर जाकर पूजा पाठ एवं दान इत्यादि करने का अवसर भी मिलता है. इस समय किया गया यह कार्य जातक के भाग्य की शुभता को बढ़ाने वाला होता है. गंगा स्नान करने का मौका भी प्राप्त होता है.

उपाय गुरू के इस राशि में गोचर का पूर्ण लाभ पाने के लिए आपको नक्षत्रों की पूजा उपासना करनी चाहिए. इनके अलावा आप चाहें तो भगवान विष्णु की आराधाना एवं गुरूवार के दिन व्रत व पूजा भी कर सकते हैं यह भी आपके लिए लाभप्रद रहेगा.

Article Categories: Kundli