Horoscope Explorer

वैवाहिक जीवन कैसा रहेगा जानिए प्रश्न कुण्डली से. (When I will get married and How Will be Married Life)

गृहस्थी सुखमय हो तो घर में देवताओं का निवास होता है. गृहस्थी में अशांति, कलह और मतभेद बना रहे तो, लक्ष्मी भी रूठ जाती है. भारतीय दर्शन की परिकल्पना भी यही कहती है कि जिस घर में प्रेम का वास होता है वहीं तीनों लोक विराजमान होता है. यही कारण है हर व्यक्ति सुखमय वैवाहिक जीवन की कामना करता है. क्या आप जानना चाहते हैं कि आपका वैवाहिक जीवन कैसा रहेगा!

प्रश्न ज्योतिष से सुखी वैवाहिक जीवन का विश्लेषण (Analysing happiness from marriage through prashna kundali)
प्रश्न कुण्डली ज्योतिषशास्त्र का ही एक अंग है. वैवाहिक जीवन कैसा होगा इस प्रश्न के विषय में प्रश्न कुण्डली का विश्लेषण करने के लिए प्रश्न ज्योतिष के अनुसार लग्नेश और सप्तमेश तथा लग्न और सप्तम भाव को देखना चाहिए (The lagna lord, and the seventh lord are important for marriage). पुरूष की कुण्डली में शुक्र तथा स्त्री की कुण्डली में गुरू की स्थिति से भी भी वैवाहिक जीवन में सुख दु:ख प्रेम और अन्य बातों का पता चलता है. वैवाहिक जीवन सुखमय होगा या नहीं इस विषय में सामान्य नियम यह है कि अगर प्रश्न कुण्डली में लग्न अथवा लग्नेश, सप्तम भाव अथवा सप्तमेश अगर शुभ और बलवान है तथा गुरू और शुक्र पाप ग्रहों से पीड़ित या मंदा नहीं है तो वैवाहिक जीवन सामान्य रूप से सुखमय होगा.

प्रश्न कुण्डली में सुखी वैवाहिक जीवन के लिए ग्रह स्थिति (Prashna kundali combinations for happy married life)
प्रश्न कुण्डली के नियमानुसार, वैवाहिक जीवन कैसा रहेगा जब यह सवाल प्रश्न कुण्डली से पूछा जाता है तब प्रश्न की कुण्डली में लग्नेश और सप्तमेश दोनों एक दूसरे को देख रहे हों तो इसे वैवाहिक जीवन में प्रेम और स्नेहपूर्ण सम्बन्ध का सूचक समझना चाहिए. इसी प्रकार का परिणाम उस स्थिति मे भी प्राप्त होता है जब लग्न का स्वामी और सप्तम भाव का स्वामी एक साथ प्रथम भाव अथवा सातवें भाव में विराजमान होते हैं. प्रश्न की कुण्डली में अगर लग्नेश और सप्तमेश एक दूसरे के मित्र हों और उनकी दृष्टि शुभ हो तो पति पत्नी के बीच आपसी सामंजस्य और प्रेम बना रहता है.

लग्नेश अगर लग्न में बैठा हो और चन्द्रमा की शुभ दृष्टि लग्न पर हो तो वैवाहिक जीवन में पति पत्नी एक दूसरे के प्रति समर्पित होते हैं उनमें एक दूसरे के प्रति विश्वास और स्नेह भरा होता है. सप्तम भाव में सप्तमेश हो और चन्द्रमा लग्नेश के साथ युति बना रहा हो तो इसे भी सुखमय और प्रेमपूर्ण वैवाहिक जीवन का सूचक माना जा सकता है. चन्द्रमा अगर कुण्डली में सातवें घर में बैठा हो और सप्तमेश उसे देखता हो तो गृहस्थी खुशहाल रहती है. गुरू और शुक्र क्रमश: लग्न और सप्तम में बैठकर एक दूसरे को देखते हैं (The aspect of Jupiter and Venus on each other) तो प्रेमपूर्ण एवं सुखमय वैवाहिक जीवन का संदेश देते हैं. अष्टम भाव में अगर शुभ ग्रह हो अथवा अष्टम भाव को शुभ ग्रह देख रहा हो तो मानोनुकूल जीवनसाथी प्राप्त होता है.
Visit "When I will get Married" for marriage astrology

प्रश्न कुण्डली से वैवाहिक जीवन की स्थितियों का विश्लेषण (Anaysing the marriage through prashna kundali)
दीपक के माता पिता उसकी शादी करना चाहते हैं, लेकिन किसी न किसी तरह दीपक शादी की बात को टाल देता है. दीपक इस बात को लेकर परेशान है कि पता नहीं वैवाहिक जीवन कैसा होगा. इस स्थिति में उसने प्रश्न कुण्डली से अपने प्रश्न का उत्तर जानना चाहा. दीपक ने 28 मई 2009 को सुबह 11 बजकर 30 मिनट पर प्रश्न कुण्डली से सवाल किया कि वैवाहिक जीवन कैसा होगा. प्रश्न कुण्डली में लग्न आया सिंह जिसका स्वामी है सूर्य (The lord of the ascendant of Leo). राशि है कर्क जिसका स्वामी है चन्द्रमा. नक्षत्र है पुष्य जिसका स्वामी है शनि. कुण्डली में ग्रहों की स्थिति का विश्लेषण करने से मालूम होता है कि सप्तमेश शनि लग्न में बैठा है और लग्नेश सूर्य दशम भाव में बैठा है. लग्नेश और सप्तमेश केन्द्र में होने से पत्नी कहना मानेगी. अष्टम भाव में शुभ ग्रह शुक्र बैठा है जिससे पत्नी मनोनुकूल होगी. सप्तम भाव में शुभ ग्रह गुरू बैठा है यह भी सुखी वैवाहिक जीवन का संकेत है.
Article Categories: Marriage Astrologyy