Customised Vedic Jyotish Reports

Premium Reports

Vedic Astrology Reports

आजीविका में बुध का प्रभाव (Role of Mercury in Your Career and Profession)


बुध को शुभ ग्रह के रूप में जाना जाता है. यह ज्ञान, बुद्धि व बुद्धि का स्वामी माना जाता है. (The voice and influential personality of the person is also considered through this planet) इस ग्रह की स्थिति से बोल-चाल के तौर तरीकों का भी विश्लेषण किया जाता है. बुध की विशेषता है कि यह दूसरे ग्रहों के गुणों को ग्रहण कर उसी के अनुरूप फल देता है. ( If it is located along with Mars or Saturn in the birth-chart then the results of Mercury will be influenced by the position of these two planets in the birth-chart) अगर यह मंगल या शनि के साथ होता है तो इन्हीं ग्रहों के अनुरूप फल देता है जबकि शुभ ग्रहों के साथ होता है तो इसके शुभ फलों में वृद्धि होती है. बुद्धि एवं मस्तिष्क का स्वामी होने के कारण आजीविका स्थान में बुध के होने पर बुद्धि से सम्बन्धित कार्यों को आजीविका के तौर पर लेना फायदेमंद होता है.

आजीविका में बुध से सम्बन्धित क्षेत्र (Fields Related to mercury)
बुध से सम्बन्धित आजीविका के क्षेत्रों में संचार के सभी साधनों को शामिल किया गया है. प्रेस का काम, लेखक, प्रकाशक, संवाददाता एवं एडिटर का कार्य भी बुध से सम्बन्धित आजीविका के क्षेत्र माने जाते हैं. (Due to the influence of Mercury the person will be knowledgeable and business-minded) बुध गणित विषय में व्यक्ति को अच्छी योग्यता देता है तथा व्यावसायिक बुद्धि देता है अत: किसी भी वस्तु के व्यवसाय में इन्हीं आमतौर पर अच्छी सफलता मिलती है. अकाउंट से जुड़े हुए कार्य हों अथवा कम्प्युटर सॉफ्टवेयर के कार्य इन सभी कार्यों में बुध अच्छी सफलता देता है. शिक्षा से सम्बन्धित क्षेत्रों में महाविद्यालय, विश्वविद्यालय, लाइब्रेरियन की नौकरी भी बुध से सम्बन्धित क्षेत्र होता है.

(If Mercury is located in the tenth house then the person have great chances to become a lawyer, detective, senior officer or foreign minister) कुण्डली के दसवें भाव में बुध होने से वकील, जासूसी, राजदूत, उच्चाधिकारी एवं विदेशी मामलों के अधिकारी बनने हेतु योग्यता प्राप्त कर प्रयास करना इन क्षेत्रों में सफलता दिलाता है. व्यवसायिक क्षेत्रों में सूती वस्त्र एवं वस्त्र उद्योग, गेहूं, खाद्य तेल का कारोबार एवं रत्नों व धातुओं में चांदी, तांबा एवं पन्ना का काम फायदेमंद होता है.

बुध एवं अन्य ग्रहों के सम्बन्ध से आजीविका (Consideration of Profession Through Relationship of Mercury with Other Planets)


बुध सूर्य से आजीविका (Relationship of Sun and Mercury and Occupation)
(Combination of Sun and Mercury forms a very auspicious Yoga which is known as "Budhhaditya Yoga") बुध व सूर्य कुण्डली में किसी भी स्थान पर हो तो बहुत ही शुभ योग बनता है जिसे बुधादित्य योग के नाम से जाना जाता है. योग अगर दसम भाव में बनता है, वह भी उच्च, मित्र या स्वराशि में तो आजीविका की दृष्टि से अत्यंत शुभकारी होता है. (He will occupy a higher position and honor at work-front through his knowledge and education) इस शुभ स्थिति में व्यक्ति ज्ञान व विद्या से उच्च पद व प्रतिष्ठा प्राप्त करता है. अगर आपकी कुण्डली में यह योग बन रहा है तो आप सरकारी नौकरी हेतु प्रयास कर सकते हैं, इस क्षेत्र में आप उच्चाधिकारी बन सकते हैं. वाणिज्य के क्षेत्र में आप प्रयास करेंगे तो चार्टर अकाउंटेंट बन सकते हैं. साफ्टवेयर के काम में भी यह योग आपको सफलता दिला सकता है.

बुध और चन्द्र से आजीविका: (Relationship of Mercury and Moon and Occupation)
(Mercury and Moon, both are the auspicious planets) बुध व चन्द्र दोनों ही शुभ ग्रह हैं. इन दोनों ग्रहों का सम्बन्ध आजीविका स्थान से होने से आजीविका के विषय में शुभ फल प्राप्त होता है. ( If they both form a Yoga in the birth-chart then he will achieve success in the creative and artistic fields) अगर आपकी कुण्डली में इन दोनों ग्रहों का योग बन रहा है तो आजीविका के तौर पर आप उन चीज़ों कामयाब हो सकते हैं जिनकी कलात्मकता व कल्पनाशीलता की जरूरत होती है. इस लिहाज से कला के किसी भी क्षेत्र में आप प्रयास कर सकते हैं. चाहे वह फाईन आर्ट हो, संगीत निर्देशन, गायन, अथवा लेखन का काम हो इन सभी क्षेत्रों में आप सफल हो सकते हैं.

बुध व गुरू से आजीविका: (Relationship of Mercury and Jupiter and Occupation)
(Jupiter is the planet of religious activities and mercury is the planet of mind and intellect) गुरू धर्म-कर्म का ग्रह माना जाता है और बुध मस्तिष्क एवं बुद्धि का स्वामी होता है. यही कारण है कि आजीविका स्थान से इन दोनों ग्रहों का सम्बन्ध होने से आप अकाउंटेंट के काम में सफलता प्राप्त कर सकते हैं, धार्मिक संस्थानों एवं धर्मस्थलों में फाइनेंस का काम भी आजीविका के तौर पर अपना सकते हैं. कमिटी एवं सामाजिक कार्यों से सम्बन्धित विभागों में आपको अच्छी सफलता मिल सकती है. (His association with an educational institute or a profession of teaching will make him successful) आप चाहें तो शिक्षण संस्थान खोल सकते हैं अथवा शिक्षण का कार्य कर सकते हैं. इनमें भी इन दोनों ग्रहों का योग आपके लिए फायदेमंद रहेगा.

बुध व शु्क्र से आजीविका (Relationship of Mercury and Venus and Occupation)
बुध के साथ शुक्र का सम्बन्ध आजीविका स्थान से होने से आजीविका के तौर पर आप कम्प्युटर का बिजनेस कर सकते हैं. ( The business of cosmetics and artificial jewelery will be beneficial for him) कॉस्मैटिक्स एवं आर्टिफिशियल ज्वेलरी का व्यवसाय भी आप आजीविका के तौर पर अपना सकते हैं. अगर आपकी रूचि कला के क्षेत्र में है तो इस क्षेत्र में भी आप प्रयास कर सकते हैं. रोडियो एवं टेलीविजन कलाकर, रेडियो जॉकी का काम आप आजीविका के तौर पर अपना सकते हैं.

बुध व शनि से आजीविका ( Relationship of Mercury and Saturn and Occupation)
बुध व शनि आपकी कुण्डली के दसवें घर में बैठा हो अथवा दसवें भाव में स्थित बुध को शनि देखता हो तो आप प्रेस में काम कर सकते हैं, ( Screen printing as a profession will be beneficial for him) स्क्रीन प्रिंटिंग का काम आपके लिए आजीविका का बेहतर माध्यम हो सकता है. आप उन कार्यों को भी आजीविका के तौर पर अपना सकते हैं जो आपके मामा जी की आजीविका का साधन है.

बुध व राहु से आजीविका (Relationship of Mercury and Rahu and Occupation)
( If Mercury and Rahu form a relationship in the tenth house then prospects are high to achieve success in the field of share market) बुध के साथ राहु का सम्बन्ध अगर दसवें घर में हो तो शेयर बाज़ार में उन्नति का अच्छा अवसर मिलता है. अगर आपकी कुण्डली में इन दोनों ग्रहों का संयोग बन रहा है तो आप शेयर ब्रोकर का कार्य कर सकते हैं, ट्रेडिंग कर सकते हैं. आजीविका के तौर पर ज्योतिषी का कार्य भी आपके लिए फायदेमंद हो सकता है. शिक्षा ग्रहण कर आप खगोलशास्त्री बन सकते हैं, आजीविका की दृष्टि से यह भी आपके लिए उत्तम रहेगा.

बुध व केतु से आजीविका (Relationship of Mercury and Ketu and Occupation)
बुध का सम्बन्ध केतु से होने पर आप रसायनशास्त्री बन सकते हैं, आप चाहें तो केमिस्ट की दुकान खोल सकते हैं. शिक्षा में मन लगाएंगे तो गणित के विद्वान हो सकते हैं तथा इसे आजीविका के तौर पर अपना सकते हैं. खोजी प्रवृति के इंसान होने के कारण आप शोध कार्यों में संलग्न रहना चाहेंगे. (The person may also become a researcher of mythology which will prove beneficial for him) प्राचीन साहित्यों पर शोध करेंगे तथा इसमें ख्याति प्राप्त करेंगे.
Article Categories: Career and Profession
Article Tags:

bottom
Free Vedic Jyotish

Free Reports

Free Vedic Astrology

All content on this site is copyrighted.


Do not copy any content without permission. Violations will attract strict legal penalties.