Category list

Tag cloud

माता-पिता तथा पारीवारिक सुख का अध्ययन | Analysis of Relationship with Parents and Domestic Bliss through Palmistry

आज हम हस्त रेखाओं के माध्यम से परिवार संबंधी कुछ बातों पर विचार करने का प्रयास करेगें. हम में से बहुत से लोग खुशनसीब होते हैं जिन के ऊपर माता-पिता का साया बहुत लंबे समय तक बना रहता है लेकिन कुछ ऎसे भी होते हैं जिन्हें माता-पिता का साथ कुछ कम समय के लिए ही मिल पाता है. आज हाथों के ऎसे ही लक्षणों के बारे में चर्चा की जाएगी. हस्तरेखाओं का सामान्य अध्ययन | Generals Analysis of Lines in Your Palm सबसे हम हस्तरेखाओ के बारे में कुछ बाते बताना चाहेगें. कुछ विद्वानो के मतानुसार...

हाथों के शुभ-अशुभ लक्षण | Auspicious and Inauspicious Signs in Palmistry

आज हम हाथो के कुछ लक्षणों के बारे में बताएंगें जिससे यह पता चल सकता है कि यह व्यक्ति कितना गुणवान है और कितना अवगुणी है. सदगुणों को जांचने के लिए गुरु तथा सूर्य पर्वत का अध्ययन आवश्यक होता है क्योकि सूर्य तेज का तो गुरु ज्ञान का नैसर्गिक कारक ग्रह है. गुणी व्यक्ति के हस्तलक्षण | Signs of Good Qualities in Palmistry आरंभ गुणवान व्यक्ति के हस्तलक्षणो से करते हैं. हाथ में गुरु प्रधान तथा सूर्य प्रधान व्यक्ति सदमार्ग पर चलने वाले होते हैं अर्थात जिनके हाथ में यह दोनो पर्वत...

असंयम रेखा, कुठार रेखा तथा चिंता रेखाओ का विश्लेषण | Impatience Line, Axe Line and Stress Line in Palmistry

<pआज हम असंयम, कुठार तथा चिंता रेखाओ के बारे में बात करेगें. असंयम रेखा से व्यक्ति में काम वासना की अधिकता होती है. कुठार रेखाएँ शुभ तथा अशुभ दोनो ही प्रकार से फल प्रदान करती हैं और जैसा की नाम से ही स्पष्ट है चिंता रेखाएँ व्यक्ति की चिन्ताओ के बारे में बताती हैं. कुठार रेखा का अध्ययन | Analysis of Axe Line आरंभ कुठार रेखा के अध्ययन से करते हैं. हाथ में किसी भी मुख्य रेखा के एकदम साथ लगी रेखा को कुठार रेखा कहते हैं. कुठार रेखा किसी भी मुख्य रेखा के साथ होने पर उसका शुभ...

हस्त रेखाओं से धार्मिक प्रवृति तथा गुप्त विद्याओ का अध्ययन | Analysis of Religious Inclination and Mystical Powers through Palmistry

आज हम हस्तरेखाओं के माध्यम से व्यक्ति के धार्मिक होने व उसकी गुप्त विद्याओं में रुचि होने का जानने का प्रयास करेंगे. साथ ही हम व्यक्ति के हस्त लक्षणों के आधार पर शिक्षा को जानने का प्रयास करेंगे. गुप्त विद्याओं तथा धार्मिक प्रवृति के हस्तलक्षण | Indications of An Interest in Religion and Mystical Powers आध्यात्म, तंत्र - मंत्र, ज्योतिष अथवा किसी भी प्रकार की अन्य गूढ़ विद्या सीखने के लिए अथवा सन्यास लेने के लिए हाथ में कुछ लक्षण मौजूद होते हैं. हम जिन लक्षणों को आपके सामने...

हथेली के अध्ययन से स्वास्थ्य का आंकलन | Analysis of Your Health through Palmistry

हस्तरेखाओं की बहुत सी विशेषताओं का हम अभी तक अध्ययन कर चुके हैं. आज हम हथेली के विभिन्न भागों से स्वास्थ्य संबंधी जानकारी हासिल करने का प्रयास करेंगे. हथेली के पर्वतों से स्वास्थ्य जानना | Analysis of Your Health through Mounts in Your Palm आइए सबसे पहले हम हथेली में बने पर्वतों के माध्यम से स्वास्थ्य का आंकलन करते हैं. हथेली में जीवन रेखा दूषित अवस्था में हो और गुरु पर्वत विकसित हो तब व्यक्ति को पाचन संबंधी बीमारी होती है. हाथ में जीवन रेखा दूषित हो और आक्रामक...

गुरु मुद्रिका और शनि मुद्रिका | Jupiter Ring and Saturn Ring in Palmistry

हस्तरेखाओं की जानकारी एक अथाह सागर के समान है जिसे पूर्ण रुप से कभी शायद ही कोई पा सका हो. बहुत सी बातों का सूक्ष्मता से अध्ययन करने के बाद ही किसी नतीजे पर पहुंचा जा सकता है. आज हम हाथों में बनी मुद्रिका की बात करेगे. गुरु मुद्रिका का अध्ययन | Analysis of Jupiter Ring आज आरंभ गुरु मुद्रिका से करते हैं. हाथ में यह रेखा तर्जनी और गुरु पर्वत के मध्य भाग में गोलाई लिए होती है. जिस भी हाथ में यह रेखा पाई जाती है तब यह व्यक्ति को बुरे काम में जाने से रोकती है और...

नाखूनो पर बनी धारियों का अध्ययन | Analysis of the Lines and Pits on Our Nails - Palmistry

हस्तरेखा शास्त्र में बहुत सी बातों का अध्ययन किया जाता है. एक कुशल हस्तरेखा शास्त्री हाथों की सभी बातों का गहराई से तथा सूक्ष्मता से विश्लेषण करने के बाद ही किसी निष्कर्ष पर पहुंचता है. हाथों की रेखाओं के साथ हाथ के नाखूनों का भी अत्यधिक महत्व माना गया है. हर व्यक्ति के नाखूनो का आकार भिन्न होता है और उस बनी धारियाँ भी भिन्न होती हैं. आज हम व्यक्ति के हाथों के नाखून पर बने गड्ढो तथा धारियों का आंकलन करेगे. नाखूनों पर धब्बो का अध्ययन | Analysis of the spots on your...

हस्त रेखा तथा यात्रा योग | Analysing Yogas for Journeys through Palmistry

हस्तरेखाओं के माध्यम से हम जीवन के बहुत से योगो तथा होने वाली घटनाओ के बारे में जान सकते हैं. कई बार यह हस्त लक्षण दिशाविहीन व्यक्ति को दिशा प्रदान करने में सहायक होते हैं. आज हम हस्त रेखाओ के माध्यम से यात्रा के योगों के बारे में बताने का प्रयास करेगें. जीवन रेखा तथा चंद्र पर्वत | Life Line and Moon Mount इस स्लाईड में हम चंद्र पर्वत तथा जीवन रेखा के संबंध को देखेगें. यात्रा देखने के लिए चंद्र पर्वत का हाथ में मुख्य स्थान होता है क्योकि चंद्र जल तत्व ग्रह होता है और यात्रा...

दुर्घटना तथा हिंसा के योग वाले हस्त लक्षण | Yogas for Accidents and Violence in Palmistry

हस्त लक्षणो के आधार पर व्यक्ति की अच्छाई तथा बुराई दोनो का ही पता चलता है. व्यक्ति दुर्घटना ग्रस्त हो सकता है या वह हिंसक प्रवृति का तो नहीं है आदि बातों का पता हस्त लक्षणों को देखकर पता चल सकता है. आज हम इन्ही हस्त लक्षणो की बात करेगें. दुर्घटना के योग वाले हस्त लक्षण | Yogas related to Accidents आइए सबसे पहले आपके सामने दुर्घटनाएँ होने के योग बताते हैं. किसी एक बात को देखकर कभी कुछ अंदाज नहीं लगाना चाहिए, अन्य बातों का अध्ययन भी जरुरी है. हाथ में आक्रामक मंगल क्षेत्र...

हस्तलक्षण के आधार पर पारीवारिक जिम्मेवारियों का अध्ययन | Analysis of Family Responsibilities through Palmistry

एक कुशल हस्तरेखा शास्त्री हाथ के लक्षणों को देखकर काफी कुछ बताने में सक्षम होता है. जीवन के सभी क्षेत्रों का अध्ययन हाथ की रेखाओ को देखकर किया जा सकता है. आज हम हस्तरेखाओं के आधार पर यह बताने का प्रयास करेगें कि कौन से जातक अपने परिवार की जिम्मेवारी निभाते हैं और कौन से नहीं. शनि रेखा का अध्ययन | Analysis of Saturn Line पारीवारिक जिम्मेवारियों के विषय में हम सबसे पहले शनि रेखा का अध्ययन करते हैं. हथेली में शनि रेखा जिन्दगी के जिस भाग में जीवन रेखा से अलग होकर शनि क्षेत्र...

संतान उत्पत्ति तथा संतान से कष्ट का अध्ययन | Analysis of Palmistry for A Child's Birth and Problems Caused by Children

हस्तरेखा शास्त्र में संतान का अध्ययन भी किया जाता है. यदि किसी व्यक्ति के पास अपनी जन्म कुंडली का पूरा विवरण नही है तब वह अपनी हाथ की रेखाओ के माध्यम से संतान प्राप्ति के विषय में जान सकता है कि संतान का सुख उसके हाथ में है या नहीं. हथेली में संतान सुख को देखने के विद्वानों में मतभेद हैं. कुछेक विद्वान बुध पर्वत के नीचे हथेली से अंदर की ओर आने वाली विवाह रेखा के ऊपर की खड़ी रेखाओं को संतान संबंधी रेखा मानते हैं तो कुछ विद्वान शुक्र पर्वत पर खड़ी रेखाओ को संतान रेखा मानते हैं क्योकि शुक्र का...

अंगुलियों के झुकाव का अध्ययन | Analysis of Inclination of Fingers

हस्तरेखा `विज्ञान में हाथ का आकार व अंगुलियों के आकार प्रकार का काफी महत्व है. हर व्यक्ति का हाथ व अंगुलियों की आकृति भिन्न होती है. इसी तरह से अंगुलियों का झुकाव भी भिन्न ही होता है. अंगुलियों के झुकाव के आधार पर भी काफी कुछ बताया जा सकता है. आज हम अंगुलियों के झुकाव की बात करेगें. अंगुलियों के झुकाव का विश्लेषण | Analysis of Inclination of Fingers आप अपने हाथ को जितना फैला सकते हैं उतना फैलाने का प्रयास करें और देखें कि अंगुलियाँ किस अवस्था में हैं. अंगुलियों को फैलाने पर...

कनिष्ठिका अंगुली के पोरों का अध्ययन | Analysis of Phalanges in Little Finger

हर अंगुली का अपना अलग महत्व माना गया है. प्रत्येक अंगुली जीवन के किसी ना किसी एक क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करती है. आज हम कनिष्ठिका अंगुली के पोरो का अध्ययन करेगें. कनिष्ठिका को सबसे छोटी अंगुली कहा जाता है और अंग्रेजी में इसे लिटल फिंगर के नाम से जाना जाता है. अन्य सभी अंगुलियों से इसका अत्यधिक महत्व माना गया है. यह अंगुली व्यक्ति के बौद्धिक विकास की क्षमता बताती है. आइए इसके पोरों की विशेषताओं के बारे में जाने. कनिष्ठिका अंगुली का पहला पोर | First Phalange in Little...

अनामिका अंगुली के पोरों का अध्ययन | Analysis of Phalanges in Ring Finger

सामुद्रिक शास्त्र में बहुत सी विद्याएँ आती है जिनमें हस्त रेखा विज्ञान का अपना ही महत्वपूर्ण स्थान है. जिन व्यक्तियो को अपनी जन्म कुंडली नही पता है उनके लिए यह विद्या अत्यंत लाभकारी है. हस्तरेखा शास्त्र में हर बात का महत्व है इसलिए आज हम अनामिका अंगुली के पोरों का अध्ययन करेगें. अनामिका अंगुली हाथ की तीसरी अंगुली होती है और अंग्रेजी में इसे रिंग फिंगर कहते हैं. अनामिका का पहला पोर | First Phalange in Ring Finger यदि व्यक्ति की अंगुली का पहला पर्व बड़ा है तब ऎसा व्यक्ति...

मध्यमा अंगुली के पर्व | Phalanges in Middle Finger

हस्तरेखा विज्ञान में हाथ में निहित सभी चिन्हों व रेखाओं का महत्व होता है. हर कोई अपनी एक अलग कहानी लेकर मौजूद है. अंगुली का हर पहलू महत्व रखता है और हर किसी का अलग अर्थ है. सामान्यत: अंगुली तीन मुख्य भागों में बंटी होती है. यह भाग पर्व या पोर कहलाते हैं. आज हम मध्यमा अंगुली के पोरो की बात करेगें. हर पोर की अपनी अलग विशेषता मानी जाती है. मध्यमा अंगुली का प्रथम पोर | First Phalange in Middle Finger मध्यमा अंगुली को शनि की अंगुली भी कहा जाता है क्योकि इसके मूल में शनि पर्वत...

तर्जनी अंगुली के पोरो का अध्ययन | Analysis of Phalanges in Index Finger

आज हम तर्जनी अंगुली के पोरों के बारे मे जानने का प्रयास करेगें. हर पोर का महत्व माना गया है़ उसी के बारे में आपको बताया जाएगा. तर्जनी अंगुली का पहला पोर | First Phalange in Index Finger हर अंगुली में मुख्य रुप से तीन पर्व होते हैं और आपकी तर्जनी अंगुली भी मुख्य रुप से तीन मुख्य भागों में बंटी होती है. इस अंगुली के सबसे ऊपर के नाखून वाले भाग को पहला पर्व कहा जाता है. यदि यह पर्व अंगुली के अन्य दो पर्वों से बड़ा होता है तब आपके भीतर नेतृत्व की योग्यता होती है. अच्छा...

अनामिका व कनिष्ठिका अंगुली का अधययन | Analysis of Ring Finger and Little Finger

अंगुलियों का महत्वपूर्ण स्थान हस्तरेखा शास्र में माना गया है. सभी अंगुलियों की अपनी विशेषता होती है. आज हम तीसरी अंगुली - अनामिका व चौथी अंगुली - कनिष्ठिका की चर्चा करेगे कि यह क्या खासियत रखती हैं. तीसरी अंगुली अनामिका की विशेषताएँ | Characteristics of Ring Finger इसका आरंभ हम अनामिका अंगुली के अध्ययन से करेगें. इस अंगुली तीसरी अंगुली भी कहते हैं और अंग्रेजी में इसे रिंग फिंगर कहते हैं. अनामिका अंगुली व्यक्ति पर पड़ने वाले बाहरी प्रभावो के बारे में बताती है. व्यक्ति अपने...

तर्जनी व मध्यमा अंगुलियों का अध्ययन | Analysis of Index and Middle Finger

हस्त रेखाओं का अपना स्वतंत्र महत्व माना गया है. हस्तरेखा शास्त्र में रेखाओं के साथ अंगुलियों का भी बहुत महत्व होता है. हाथ का आकार व्यक्ति के व्यक्तित्व का बोध कराने में एक अहम भूमिका निभाते हैं, जिसमें अंगुलियों से व्यक्ति के स्वभाव व व्यवहार का विश्लेषण किया जाता है. आज हम अंगुलियों के बारे में विस्तार से अध्ययन करेगें. पहली अंगुली तर्जनी का विश्लेषण | Analysis of Index Finger अंगुलियो के अध्ययन का आरंभ हम पहली अंगुली से करते हैं. इस अंगुली को तर्जनी अंगुली भी कहा जाता...

हस्तरेखा शास्त्र में अंगूठे का महत्व - भाग 2 | Importance of Thumb in Palmistry - Part 2

सामुद्रिक शास्त्र के अन्तर्गत हस्तरेखा विज्ञान आता है. कई व्यक्तियों के पास अपना जन्म विवरण नहीं होता है तब उनका हाथ देखकर उनके आने वाले समय के बारे में बताया जा सकता है. हथेली की सभी बातों के साथ अंगुलियों का भी अवलोकन किया जाता है. अंगुलियों में भी अंगूठे का अपना अत्यधिक महत्व माना गया है. एक अकेले अंगूठे से व्यक्ति के व्यक्तित्व का आंकलन आसानी से किया जा सकता है. अंगूठे के सिरे का अवलोकन | Analysis of two ends of your Thumb सबसे पहले हम अंगूठे के सिरे से विषय को आरंभ...

हस्तरेखा शास्त्र में अंगूठे का महत्व - भाग 1 | Importance of Thumb in Palmistry - Part 1

हस्त रेखा शास्त्र में अंगूठे का अत्यधिक महत्व माना गया है. इसे हथेली का राजा कहा जाए तो कोई अतिश्योक्ति नहीं होगी. अगर अंगूठा ना हो तो हम इसके बिना किसी काम के करने की कल्पना भी नहीं कर सकते हैं. आज हम आपको अंगूठे की विशेषताओ के बारे में बताएंगें कि अंगूठा किस प्रकार व्यक्ति के विवेक के बारे में बताता है. अंगूठे का आकार व लंबाई | Shape and Size of a Thumb आरंभ हम अंगूठे के आकार व लंबाई से करते हैं. पहली अंगुली के तीसरे पोर के आधे भाग तक पहुंचने वाले अंगूठे को सामान्य आकार...