deepavali_main1
deepavali_main
deepavali

23 अक्टूबर, 2014 दिपावली पूजन मुहूर्त
23 अक्टूबर, 2014 Deepavali Puja Muhurt

श्री महालक्ष्मी पूजन व दीपावली का महापर्व कार्तिक कृ्ष्ण पक्ष की अमावस्या में प्रदोष काल, स्थिर लग्न समय में मनाया जाता है. धन की देवी श्री महा लक्ष्मी जी का आशिर्वाद पाने के लिये इस दिन लक्ष्मी पूजन करना विशेष रुप से शुभ रहता है.
deepavali_puja2

दीवाली पूजा कैसे करे
How to Perform Deepavali Puja

दीवाली के दिन की विशेषता लक्ष्मी जी के पूजन से संबन्धित है. इस दिन हर घर, परिवार, कार्यालय में लक्ष्मी जी के पूजन के रुप में उनका स्वागत किया जाता है.
laxmi_aarti2

श्री महा लक्ष्मी जी आरती
Sree Maa Laxmi Aarti

दीपावली का विधिवत- पूजन करने के बाद कपूर व घी का दीपक जलाकर महा लक्ष्मी जी की आरती की जाती है. आरती के लिए एक थाली में रोली से स्वास्तिक बनाएं.
govardhan2

गोवर्धन एवं अन्नकूट पर्व-2014
Govardhan and Annakut Festivals-2014

गोवर्धन पर्व प्रत्येक वर्ष दिपावली के एक दिन बाद मनाया जाता है. वर्ष 2014 में यह् पर्व 24 अक्तूबर कार्तिक मास शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि को श्रद्धा व विश्वास के साथ मनाया जायेगा. गोवर्धन पूजा के दिन ही अन्नकूट पर्व भी मनाया जाता है.
bhai_dooj2

भाई दूज पर्व- 2014
Bhai Dooj - 2014

25 अक्तूबर, 2014 कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि के लिये भाई दूज का पर्व बडी धूमधाम से मनाया जायेगा. भाई दूज को यम द्वितीया के नाम से भी जाना जाता है. भाई दूज पर्व भाईयों के प्रति बहनों के श्रद्धा व विश्वास का पर्व है.
dhanteras1

धनतेरस 21 अक्तूबर, 2014 शुभ मुहूर्त
Dhanteras 21 अक्तूबर, 2014 Auspicious Time

उत्तरी भारत में कार्तिक कृ्ष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि के दिन धनतेरस का पर्व पूरी श्रद्धा व विश्वास से मनाया जाता है. देव धनवन्तरी के अलावा इस दिन, देवी लक्ष्मी जी और धन के देवता कुबेर के पूजन की परम्परा है. इस दिन कुबेर के अलावा यमदेव को भी दीपदान किया जाता है. इस दिन यमदेव की पूजा करने के विषय में एक मान्यता है कि इस दिन यमदेव की पूजा करने से घर में असमय मृ्त्यु का भय नहीं रहता है. धन त्रयोदशी के दिन यमदेव की पूजा करने के बाद घर के मुख्य द्वार पर दक्षिण दिशा की ओर मुख वाला दीपक पूरी रात्रि जलाना चाहिए. इस दीपक में कुछ पैसा व कौडी भी डाली जाती है.
deepavali_story2

दीपावली पूजन कथा
Legends of Deepavali

एक गांव में एक साहूकार था, उसकी बेटी प्रतिदिन पीपल पर जल चढाने जाती थी. जिस पीपल के पेड पर वह जल चढाती थी, उस पेड पर लक्ष्मी जी का वास था. एक दिन लक्ष्मी जी ने साहूकार की बेटी से कहा मैं तुम्हारी मित्र बनना चाहती हूँ.
deepavali_importance2

दीपावली का पौराणिक महत्व और लक्ष्मी जी का निवास अपने यहां बनाये रखने के उपाय
Importance of Deepavali and Ways to Keep Laxmi with Your Home

दीपावली पर्व हिन्दूओं का प्रमुख त्यौहार है, इस पर्व का धार्मिक महत्व होने के साथ साथ पौराणिक महत्व भी है. एक मान्यता के अनुसार बारह राशियों को दो भागों में बांटा गया है.