सती अनुसूया जयंती | Sati Anusuiya Jayanti | Anusuiya Jayanti 2016

26 अप्रैल 2016 को सती अनुसूया जयंती मनाई जाएगी. अनुसूया जी का स्थान पतिव्रता स्त्रियों श्रेणी में सर्वोपरी रहा है. दक्ष प्रजापति की चौबीस कन्याओं में से एक थी अनुसूया जो मन से पवित्र एंव निश्छल प्रेम की परिभाषा थीं इन्हें सती साध्वी रूप में तथा एक आदर्श नारी के रूप में जाना जाता है. अत्यन्त उच्च कुल में जन्म होने पर भी इनके मन में कोई अंह का भाव नहीं था. इनका संपूर्ण जीवन ही एक आदर्श रहा है. पौराणिक तथ्यों के आधार की यदि बात की जाए तो माता सीता जी भी इनके तेज से बहुत प्रभावित...

संकष्टनाशनस्त्रोतम् | Sankatnashan Strotram | Sankatnashan Stotra

गणेश जी की महिमा अपने आप में अनूठी है. हाथी के मस्तक वाले अपने वाहन मूषक पर सवार विघ्नहर्ता श्री गणेश ऋद्धि-सिद्धि के दाता हैं. किसी भी कार्य को आरंभ करने से पूर्व इनकी अराधना कार्य को निर्विघ्न संपन्न होने का आशिर्वाद देती है. नारद उवाच | Naarad Uvacha प्रणम्य शिरसा देवं गौरीपुत्रं विनायकम् भक्तावासं स्मरेन्नित्यमायु: कामार्थसिद्धये।। प्रतमं वक्रतुण्डं च एकदन्तं द्वितीयकम्। तृतीयं कृष्णपिगडांक्षं गजवक्त्रं चतुर्थकम् ।। लम्बोदरं पत्रचमं...

शीतला अष्टमी व्रत 2017 | Sheetla Ashtami Fast 2017 | Sheetla Ashtami Festival 2017 | Sheetala Ashtami Vrat

शीतलाष्टमी का पर्व होली के सम्पन्न होने के कुछ दिन पश्चात मनाया जाता है. देवी शीतला की पूजा चैत्र मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि से आरंभ होती है.शीतला अष्टमी पर्व 21 मार्च 2017 दिन मनाई जाएगी. शीतला अष्टमी पर्व के दिन शीतला माता का व्रत एवं पूजन किया जाता है. शीतला अष्टमी के दिन शीतला माँ की पूजा अर्चना में बासी ठंडा खाना ही माता को भोग लगया जाता है जिसे बसौडा़ कहा जाता हैं और यही बासा भोजन प्रसाद रूप में खाया जाता है तथा यही नैवेद्य के रूप में समर्पित सभी भक्तों के बीच प्रसाद के...

श्री लक्ष्मी पंचमी | Sri Laxmi Panchami | Lakshmi Panchami Vrat | Lakshmi Panchami Festival

श्री लक्ष्मी पंचमी व्रत चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की पंचमी को किया जाता है. इस दिन माँ लक्ष्मी जी की आराधना से मनोवांछित फलों की प्राप्ति होती है तथा साधक को श्री का आशिर्वाद मिलता है. इस दिन धन की अधिष्ठाती देवी महालक्ष्मी की प्रसन्नता के लिए भक्तों को व्रत रखकर रात्रि में माता लक्ष्मी का विधिपूर्वक पूजन करना चाहिए। शास्त्रों में देवी लक्ष्मी जी के स्वरुप को अत्यंत सुंदर और प्रभावि रुप से दर्शाया गया है. देवी लक्ष्मी की पूजा, दरिद्रता को दूर करने में सहायक होती है. देवी...

पापमोचनी एकादशी का महत्व | Importance of Papamochani Ekadasi | Paap Mochini Ekadashi 2016

पाप मोचनी एकादशी व्रत चैत्र मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी को किया जाता है. वर्ष 2016 में पापमोचनी एकादशी व्रत 4 अप्रैल के दिन किया जायेगा. पौराणिक मान्यताओं के अनुसार चैत्र कृष्ण पक्ष की एकादशी पापों को नष्ट करने वाली होती है. स्वयं भगवान श्री कृष्ण ने इसके फल एवं प्रभाव को अर्जुन के समक्ष प्रस्तुत किया था. पापमोचनी एकादशी व्रत साधक को उसके सभी पापों से मुक्त कर उसके लिये मोक्ष के मार्ग खोलती है. इस एकादशी के दिन भगवान विष्णु जी का पूजन करना चाहिए. अगर कोई व्यक्ति इस पूजा को...

विजया एकादशी पर करें विजया की प्राप्ति | Attain Victory on the Festivals of Vijaya Ekadashi

फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष की एकाद्शी को विजया एकादशी के रूप में मनाया जाता है. यह एकादशी विजय की प्राप्ति को सशक्त करने में सहायक बनती है। तभी तो प्रभु राम जी ने भी इस व्रत को धारण करके अपने विजय को पूर्ण रूप से प्राप्त किया था. एकादशी व्रत करने से व्यक्ति के शुभ फलों में वृद्धि होती है तथा अशुभता का नाश होता है. विजया एकादशी व्रत 22 फरवरी 2017 को किया जाएगा. विजया एकादशी व्रत करने से साधक को व्रत से संबन्धित मनोवांछित फल की प्राप्ति करता है. सभी एकादशी अपने नाम के अनुरुप फल देती...

आंवला एकादशी पर करें आंवला के वृक्ष की पूजा | Worship Amla Tree on the day of Amla Ekadashi

विष्णु पुराण के अनुसार एक बार भगवान विष्णु के मुख से चन्दमा के समान प्रकाशिए बिन्दू प्रकट होकर पृथ्वी पर गिरा. उसी बिन्दू से आमलक अर्थात आंवले के महान पेड की उत्पति हुई. भगवान विष्णु के मुख से प्रकट होने वाले आंवले के वृक्ष को सर्वश्रेष्ठ कहा गया है. इस फल के महत्व के विषय में कहा गया है, कि इस फल के स्मरणमात्र से रोग एवं ताप का नाश होता है तथा शुभ फलों की प्राप्ति होती है. यह फल भगवान विष्णु जी को अत्यधिक प्रिय है. इस फल को खाने से तीन गुना शुभ फलों की प्राप्ति होती...

होलिका दहन समय 23 मार्च 2016 | Holika Dahan 23rd March, 2016 | Holika Dahan 2016

होलिका दहन प्रदोष व्यापिनी फाल्गुन पूर्णिमा के दिन भ्रद्रारहित काल में होलिका दहन किया जाता हैं ऎसा धर्म सिंधु में निहित है. यदि प्रदोष के समय भद्रा व्याप्त हो और भद्रा निशीथकाल अर्थात अर्ध रात्रि से पूर्व ही समाप्त हो रही हो तो भद्रा के पश्चात तथा आधी रात से पूर्व ही होलिका दहन किया जाना चाहिए ऎसा शास्त्रों में बताया गया है. लेकिन यदि भद्रा आधी रात से पहले समाप्त न हो और अगले दिन की सुबह तक व्याप्त हो और अगले दिन पुर्णिमा प्रदोषव्यापिनी भी नहीं हो तो ऎसी स्थिति में पहले दिन ही भद्रा...

मार्गशीर्ष सोमवती अमावस | Margashirsha Somvati Amavasya | Margashirsha Somvati Amavasya Vrat 2013

मार्गशीर्ष सोमवती अमावस्या 2 दिसंबर, 2013 को सोमवार के दिन संपन्न होगी. सोमवती अमावस से तात्पर्य यह होता है कि किसी भी माह की अमावस्या जब सोमवार के दिन होती है तो उसे सोमवती अमावस्या कहा जाता है. यह अमावस्या पितरों के तर्पण कार्यो के लिये सर्वश्रेष्ठ मानी जाती है. इस दिन व्रत भी किया जा सकता है जिसका शुभ फल आपके कर्मों को शुभता प्रदान करने वाला होता है. सोमवार शिव उपासना का दिन है तथा इस दिन शिव एवं हनुमान जी की पूजा उपासना काल, भय, पीड़ा और रोग निवारण में प्रभावी मानी गई है और...

महाशिवरात्रि व्रत 2016 | Maha Shivaratri Fast 2016 | Mahashivratri Vrat | Mahashivratri Festival 2016

महाशिव रात्रि अर्थात कल्याणकारी रात्रि. फाल्गुन कृष्ण चतुर्दशी तिथि को किया जाने वाला महाशिवरात्रि का पर्व इसी को दर्शाता है. इस शिवरात्रि का शास्त्रों में बहुत माहात्म्य माना है. मान्यता है कि फाल्गुन कृष्ण चतुर्दशी को भगवान शिव ज्योतिर्मय लिंग स्वरूप में प्रकट हुए थे इसलिए इसे महाशिवरात्रि कहा जाता है. शिवरात्रि के व्रत के बारे में भिन्न-भिन्न मत हैं. फाल्गुन महाशिवरात्रि उत्सव | Phalgun Maha Shivratri Festival फाल्गुन का महीना वसंत के आगमन को दर्शाता है, फाल्गुन...

सीता जयंती पर्व | Sita Jayanti Festival | Sita Jayanti 2016 | Janki Jayanti | Seeta Jayanti

14 मई 2016 के दिन सीता जयंती का उत्सव संपूर्ण भारत में उत्साह व श्राद्धा के साथ मनाया जाएगा. यह पर्व माँ सीता के जन्म दिवस के रुप में जाना जाता है. वैशाख मास के शुक्लपक्ष की नवमी तिथि को भी जानकी-जयंती के रूप में मनाया जाता है, परंतु भारत के कुछ क्षेत्रों में फाल्गुन मास के कृष्णपक्ष को सीता-जयंती के रूप में भी मनाने की परंपरा रही है. इस तथ्य का उदघाटन निर्णयसिंधु से भी प्राप्त होता है जिसके अनुसार फाल्गुन माह की कृष्ण पक्ष के दिन सीता जी का जन्म हुआ था इसीलिए इस तिथि को...

गणेश तिल चतुर्थी 2017 | Ganesh Til Chaturthi 2017 | Ganesh Til Chaturthi

31 जनवरी 2017 के दिन मनाई जानी है. गणेश तिल चतुर्थी का व्रत हिन्दु कैलेण्डर के अनुसार माघ मास में शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को रखा जाता है. इस दिन तिल दान करने का महत्व होता है. इस दिन गणेश भगवान को तिल के लड्डुओं का भोग लगाया जाता है. भगवान गणेश का स्थान सभी देवी-देवताओं में सर्वोपरि है. गणेश जी को सभी संकटों को दूर करने वाला तथा विघ्नहर्ता माना जाता है. जो भगवान गणेश की पूजा-अर्चना नियमित रूप से करते हैं उनके घर में सुख व समृद्धि बढ़ती है. गणेश तिल चतुर्थी व्रत विधि | Ganesha Til...

गौरी तृतीया व्रत 2017 | Gauri Tritiya Fast 2017 | Gauri Tritiya | Gauri Tritiya Pooja

शक्तिरूपा पार्वती की कृपा प्राप्त करने हेतु सौभाग्य वृद्धिदायक गौरी तृतीया व्रत करने का विचार शास्त्रों में बताया गया है. इस वर्ष यह व्रत 30 जनवरी, 2017 को किया जाना है. माघ मास की शुक्ल पक्ष की तृतीया के दिन इस व्रत को किया जाता है. शुक्ल तृतीया को किया जाने वाला यह व्रत शिव एवं देवी पार्वती की असीम कृपा प्राप्त करने के लिए किया जाता है. विभिन्न कष्टों से मुक्ति एवं जीवन में सफलता का मार्ग प्रशस्त करने के लिए इस व्रत की महिमा का बखान पूर्ण रुप से प्राप्त होता है. इस व्रत का...

दान पुण्य की माघ पूर्णिमा | Magnificence of Magh Purnima | Magh Purnima 2017

10 फरवरी 2017 के दिन माघ पूर्णिमा का उत्सव मनाया जाएगा. ब्रह्मवैवर्तपुराण में उल्लेख है कि माघी पूर्णिमा पर भगवान विष्णु गंगाजल में निवास करते हैं अत: इस पावन समय गंगाजल का स्पर्शमात्र भी स्वर्ग की प्राप्ति देता है। इसी प्रकार पुराणों में मान्यता है कि भगवान विष्णु व्रत, उपवास, दान से भी उतने प्रसन्न नहीं होते, जितना अधिक प्रसन्न माघ स्नान करने से होते हैं. इस दिन किए गए यज्ञ, तप तथा दान का विशेष महत्व होता है. भगवान विष्णु की पूजा कि जाती है, भोजन, वस्त्र, गुड, कपास, घी,...

माघ शनि प्रदोष व्रत | Magh Shani Pradosh Fast | Magh Shani Pradosh Fast 2013

23 फरवरी 2013 को शनि प्रदोष व्रत होगा. यह व्रत माघ शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी को रखा जाएगा. शनि प्रदोष व्रत का विशेष महत्व माना गया है. इस दिन भगवान शिव और माता पार्वती की पूजा-आराधना की जाती है. प्रदोष व्रत का नियम व पालन सफलता, शान्ति और समस्त इच्छाओं की पूर्ति कराने वाला होता है. यह सारे अज्ञान का नाश कर देता है और भक्त को शिव की कृपा का पात्र बनाता है. जब यह प्रदोष व्रत शनिवार के दिन पड़ता है, तो इसे शनि प्रदोष व्रत के नाम से जाना जाता है. नवग्रहों में से एक शनि ग्रह का वर्णन...

बसंत पंचमी पर सरस्वती पूजन | Saraswati Puja on Basant Panchami | Saraswati Puja

माघ शुक्ल पंचमी के दिन बसंत पंचमी और सरस्वती पूजा का विधान होता है. इस शुभ दिन सभी शिक्षण संस्थानों में विद्या की देवी सरस्वती जी की पूजा कि जाती है. सरस्वती को कला की भी देवी माना जाता है अत: कला क्षेत्र से जुड़े लोग भी माता सरस्वती की विधिवत पूजा करते हैं.साथ ही साथ पुस्तकओं एवं कलम की पूजा भी करते हैं. सरस्वती को साहित्य, संगीत, कला की देवी का स्थान प्राप्त है इनकी उपासना से सभी को बुद्धि एवं ज्ञान की प्रप्ति होती है, देवी सरस्वती जीवन की जड़ता एवं अज्ञानता को दूर करके...

अचला भानू सप्तमी | Achla Bhanu Saptami | Achala Saptami | Achala Saptami 2017

माघ माह की शुक्ल पक्ष की सप्तमी को सूर्य सप्तमी, अचला सप्तमी, रथ आरोग्य सप्तमी इत्यादि नामों से जानी जाती है. विशेषकर जब यह सप्तमी रविवार के दिन हो तो इसे अचला भानू सप्तमी के नाम से पुकारा जाता है और इस दिन पड़ने के कारण इसका महत्व और भी अधिक बढ़ जाता है. 3 फरवरी 2017 में यह व्रत किया जाएगा. अचला सप्तमी पौराणिक आधार | Achla Saptami Mythological Basis शास्त्रों में सूर्य को आरोग्यदायक कहा गया है इनकी उपासना से रोग मुक्ति का उपाय बताया जाता है. माघ मास की शुक्ल पक्ष की...

तिल द्वादशी व्रत पूजा | Til Dwadashi Vrat Puja | Til Dwadashi Fast | Til Dwadashi Fast 2017

तिल द्वादशी व्रत माघ माह की कृष्ण पक्ष द्वादशी को किया जाता है. वर्ष 2017 में यह त्यौहार 24 जनवरी को मनाया जाएगा. इस दिन तिल से भगवान विष्णु का पूजन किया जाता है. पवित्र नदियों में स्नान व दान करने से शुभ फलों की प्राप्ति होती है. प्रात:काल नित्यकर्म से निवृत होकर भगवान विष्णु जी का पूजन किया जाता है. प्रातः काल संकल्प के साथ षोड़शोपचार या पंचोपचार विधि से ॐ नमो भगवते वासुदेवाय नमः का जाप करते हुए पूजन किया जाना चाहिए. तिल द्वादशी के दिन सुबह स्नान आदि से निवृत होकर स्वच्छ...

षटतिला एकादशी | Shattila Ekadashi | Shattila Ekadashi 2017 | Shattila Ekadashi Vrat 2017

षट्तिला एकादशी का व्रत 23 जनवरी, के दिन रखा जाएगा. प्रतिवर्ष माघ मास की कृष्ण पक्ष की एकादशी को षटतिला एकादशी का व्रत रखा जाता है. अपने नाम के अनुरूप यह व्रत तिलों से जुडा हुआ है, तिल का महत्व तो सर्वव्यापक है और हिन्दु धर्म में यह बहुत पवित्र माने जाते हैं पूजा में इनका विशेष महत्व होता है. षट्तिला एकादशी के दिन तिलों का छ: प्रकार से उपयोग किया जाता है. जिसमें तिल से स्नान करना, तिल का उबटन लगाना, तिल से हवन करना, तिल से तर्पण करना, तिल का भोजन करना और तिलों का दान करना...

मौनी अमावस्या | Mauni Amavasya | Mauni Amavasya 2017 | Mauni Amavasya Vrat 2017

27 जनवरी 2017 को मौनी अमावस्या का उत्सव मनाया जाएगा. मौनी अमावस्या के दिन सूर्य तथा चन्द्रमा गोचरवश मकर राशि में आते हैं इसलिए यह दिन एक संपूर्ण शक्ति से भरा हुआ और पावन अवसर बन जाता है इस दिन मनु ऋषि का जन्म भी माना जाता है. इसलिए भी इस अमावस्या को मौनी अमावस्या कहा जाता है. मकर राशि, सूर्य तथा चन्द्रमा का योग इसी दिन होता है अत: इस अमावस्या का महत्व और बढ़ जाता है. इस दिन पवित्र नदियों व तीर्थ स्थलों में स्नान करने से पुण्य फलों की प्राप्ति होती है. मौनी अमावस्या पर मौन व्रत...