Articles in Category Planets

गुरु पुष्य और रवि पुष्य योग 2019 Guru Pushya and Ravi Pushya Yoga In 2019

गुरू पुष्य योग रवि पुष्य योग एक बहुत ही विशिष्ट एवं महत्वपूर्ण योग माना जाता है. ज्योतिष में इस योग की बहुत महत्ता है. इस योग के समय किए गए कार्यों में सफलता एवं शुभता की संभावना में वृद्धि होती है.

द्विपुष्कर और त्रिपुष्कर योग 2019 । Dwipushkar and Tripushkar Yoga Dates in 2019

ज्योतिष में खरीदारी करने से संबंधित कई योगों के बारे में विवरण मिलता है. जिनमें शुभाशुभ फलों की प्राप्ति हो सकती है. इन्ही योग में से ऎसे दो योग हैं द्विपुष्कर योग और त्रिपुष्कर योग. इन योगों में

2019 में ग्रहों की वक्री और मार्गी स्थितियां | Retrograde and Directional State of Planets in 2019

मंगल 2019 | Mars 2019 मंगल 5 फरवरी 2019 में मेष राशि में 23:47 पर प्रवेश करेंगे. मंगल 22 मार्च 2019 को वृष राशि में 15:04 पर प्रवेश करेंगे. मंगल 7 मई 2019 को मिथुन राशि में 06:53 पर प्रवेश करेंगे.

मुंडन मुहूर्त्त 2019 | Mundan Muhurat in 2019 | Auspicious Mundan Dates 2019 | Mundan Sanskar Muhurat 2019

प्राचीन काल से, भारतीय वैदिक ज्योतिष में ऋषियों ने सोलह संस्कारों का वर्णन किया है. इन सोलह संस्कारों के अन्तर्गत यह भी कहा जाता है कि बच्चे के मुण्डन संस्कार समारोह के बारे में भी उल्लेख किया गया

निरयण संक्रान्ति प्रवेश काल और पुण्यकाल 2019 | Niryan Sankranti 2019 | Niryan Calender 2019 | Sankranti 2019

वैदिक ज्योतिष के अनुसार सूर्य जब एक राशि से दूसरी राशि में प्रवेश करता है तब उस समयावधि को संक्रान्ति कहते हैं. भचक्र में कुल 12 राशियाँ होती हैं. इसलिए सूर्य संक्रान्ति भी बारह ही होती है. इन बारह

व्रत तथा त्यौहार 2019 | Fasts and Festivals 2019 | Hindu Calendar 2019 | Hindu Festivals Panchang

जनवरी माह के त्यौहार-व्रत-उपवास, 2019 | Fasts and Festivals of January 2019 दिनांक प्रमुख त्यौहार हिन्दु तिथि 1 जनवरी सफला एकादशी व्रत पौष कृष्ण एकादशी (11) 2 जनवरी पौष अमावस्या पौष अमावस (30) 13

शुभ विवाह मुहूर्त नवम्बर | Marriage Muhurat November 2019 Shubh Vivah Muhurat | Hindu Marriage Dates November

हिन्दूओं में शुभ विवाह की तिथि ज्ञात करने के लिये वर-वधू की जन्म राशि का प्रयोग किया जाता है. वर या वधू का जन्म जिस चन्द्र नक्षत्र में हुआ होता है, उस नक्षत्र के चरण में आने वाले अक्षर को भी विवाह की

गुरु का वृश्चिक राशि में गोचर | Jupiter Transit In Scorpio 2018 | Jupiter In Scorpio: Effects On 12 Rashi | Guru Transit Effects on 12 Zodiac Signs

11 अक्टूबर 19:19 मिनिट पर गुरू तुला राशि से निकलकर वृश्चिक राशि में प्रवेश करने जा रहा है. इस राशि में गुरू के गोचर का प्रभाव सभी राशि के जातकों पर भिन्न - भिन्न प्रकार से होगा. इस दौरान आप भी गुरू

कालसर्प योग का कुण्डली पर प्रभाव । Effect of Kalsarp yog in kundli

जन्म कुण्डली में राहु-केतु से निर्मित होने वाला योग है. राहु को कालसर्प का मुख माना गया है. अगर राहु के साथ कोई भी ग्रह उसी राशि और नक्षत्र में शामिल हो तो वह ग्रह कालसर्प योग के मुख में ही स्थित

कैसे बनता है यमघंटक योग | How does ‘Yamghantak Yoga’ appear ?

कुछ अशुभ योगों की गिनती में यमघंटक योग का नाम भी आता है. यह वह योग है जो अच्छे कार्यों में त्याज्य होता है. इस योग में व्यक्ति के किए गए शुभ कार्यों में असफलता की संभावना बढ़ जाती है. ज्योतिष में

2018 में वक्री गुरू का राशियों पर प्रभाव । Retrograde Jupiter's effect on Signs in 2018

इस वर्ष 9 मार्च 2018 को 10:15 पर बृहस्पति तुला राशि में वक्री होकर गोचर करेंगे. बृहस्पति का वक्री होना अचानक से होने वाले बदलावों और जीवन की परिस्थितियों में आने वाले उतार-चढा़वों को दर्शाने वाला

बुध संबंधित व्यवसाय। Business Related to Mercury

बुध के कारक तत्वों में जातक को कई अनेक प्रकार के व्यवसायों की प्राप्ति दिखाई देती है. बुध एक पूर्ण वैश्य रूप का ग्रह है. व्यापार से जुडे़ होने वाला एक ग्रह है जो जातक को उसके कारक तत्वों से पुष्ट

बृहस्पति का व्यवसाय क्षेत्र में महत्व | Significance of Jupiter In Business

बृहस्पति को समस्त ग्रहों में शुभ ग्रह माना गया है. इसी के साथ इन्हें ज्ञान, विवेक और धन का कारक माना जाता है. इस बात से यह सपष्ट होता है कि अगर कुण्डली में गुरू उच्च एवं बली हो तो स्वभाविक ही वह शुभ

बाधक ग्रह | Badhak Graha | Badhakesh Planet

वैदिक ज्योतिष के अन्तर्गत अनगिनत योगों का उल्लेख मिलता है. बहुत से योग अच्छे हैं तो बहुत से योग खराब भी हैं. जन्म कुंडली में अरिष्ट की व्याख्या भावों के आधार पर भी की जाती है. कुछ भाव ऎसे हैं जो जीवन

सूर्य का धनु, मकर, कुंभ और मीन राशि पर प्रभाव | Sun in Sagittarius, Capricorn, Aquarius and Pisces Signs - Sun in Different Signs

आज हम सूर्य की स्थिति को धनु, मकर, कुंभ तथा मीन राशियों में देखेगें. इन चारों राशियों में सूर्य के क्या फल व्यक्ति को मिलते हैं इस बात पर चर्चा की जाएगी. सूर्य की धनु राशि में विशेषता |

विदेश में निवास करने के योग | Yogas That Make You Settle Or Travel Abroad

जन्म कुंडली में बहुत से योग मौजूद होते हैं, कुछ शुभ होते हैं तो कुछ योग अशुभ भी होते हैं. कई व्यक्ति अपने ही जन्म स्थान में जीवनभर बने रहते हैं तो कुछ लोगो को जन्म स्थान से दूर रहकर ही सुख की

विदेश यात्रा | Travelling In Foreign Countries

वर्तमान समय में हर व्यक्ति विदेश यात्रा करने का इच्छुक है लेकिन कितने लोग जा पाते हैं यह एक भिन्न बात हो जाती है. जिनकी कुंडली में विदेश यात्रा के योग होते हैं,संबंधित दशा व गोचर भी अनुकूल होने पर वह

कमजो़र शुक्र का फल | Effects of Weak Venus in Different Houses

कुंडली में अपनी स्थिति विशेष के कारण अथवा किसी बुरे ग्रह के प्रभाव में आकर भी शुक्र बलहीन हो जाते हैं. इसके बलहहीन होने के प्रभाव जातक के वैवाहिक जीवन अथवा प्रेम संबंधों मेंतनाव को उत्पन्न कर सकते

कमजोर बृहस्पति के फल | Effects of Weak Jupiter in Different Houses

कोई ग्रह कुण्डली में किस अवस्था में है यदि ग्रह नीच का है, वक्री है, पाप ग्रहों के साथ है या इनसे दृष्ट है, खराब भावों में स्थित है, षडबल में कमजोर है, अन्य अवस्थाओं में निर्बल हो इत्यादि तथ्यों से

बृहस्पति के भिन्नाष्टकवर्ग का विवेचन | Analysis Of Bheenashtakvarga of Jupiter

अष्टकवर्ग में बृहस्पति के भिन्नाष्टकवर्ग द्वारा जातक को बृहस्पति से प्राप्त होने वाले शुभाशुभ परिणामों की विवेचना के लिए बिन्दुओं की संख्या का निर्धारण करने की आवश्यकता पड़ती है. बृहस्पति को समस्त