Articles in Category Ank Shastra

अंक शास्त्र में अंक 2 का महत्व | Importance of Number 2 in Numerology

अंक शास्त्र में सभी अंकों का अपना - अपना महत्व माना गया है. आपके नाम की स्पैलिंग के सभी हिज्जो के जोड़ से अंत में जो अंक मिलता है वह आपका नामांक कहा जाता है. अंक दो के सकारात्मक पहलू | Positive

अंक शास्त्र और स्वास्थ्य | Ankshastra and Health - Part 2

सभी अंको का अपना विशिष्ट महत्व माना गया है. हर एक अंक का संबंध शरीर के एक विशेष भाग और बीमारी से बनता है. आइए जाने कि किस अंक का संबंध किस विकार से है और उससे कैसे बचा जा सकता है. अंक छ : और आपका

अंक शास्त्र और स्वास्थ्य | Ankshastra and Health -Part 1

एक बहुत ही पुरानी कहावत है कि "शरीर स्वस्थ है तो सब स्वस्थ है". अगर शरीर स्वस्थ नहीं रहता तो कुछ भी ठीक नहीं लगता है. कई बार व्यक्ति शारीरिक रुप से तो स्वस्थ रहता है पर मानसिक परेशानियाँ बहुत रहती है

अंक शास्त्र और प्रेम संबंध | Ankshastra and Love Relationship

हर्ट नंबर का अंक शास्त्र में अपना महत्व माना गया है. यह नंबर व्यक्ति के अंग्रेजी नाम में आने वाले वोवेल्स के आधार पर निकाला जाता है. इस हर्ट नंबर से व्यक्ति के चरित्र चित्रण का तो पता चलता ही है

अंक शास्त्र में हर्ट नंबर का महत्व | Importance of Heart Number in Numerology

अंक शास्त्र का अगर सूक्ष्मता से अध्ययन किया जाए तब व्यक्ति विशेष के बारे में बहुत सी बाते उजागर होती हैं. हर अंक का अपना महत्व माना गया है. आज हम दिल के नंबर के बारे में बात करेगें. हर व्यक्ति का

अंक एक का महत्व | Importance of Number 1

सदियों से मनुष्य प्रकृति के आगे सिर झुकाता आया है. जैसे-जैसे मनुष्य सभ्य होता गया बहुत सी गूढ़ विद्याओं की जानकारी भी प्राप्त करने लगा. सूर्य तथा चंद्रमा के साथ अन्य ग्रहों के विषय में भी जानना आरंभ

मास्टर नंबर (विशिष्ट अंक) | What is the Impact of Master Ank (Special Ank) on Your Life

मास्टर नंबर को अंक ज्योतिष में महत्वपूर्ण नंबर माने गए हैं. आधुनिक अंक शास्त्री इन मास्टर नंबर के महत्व को बखूबी परिलक्षित कर पाए हैं. इन मास्टर नंबर को अंक शात्र में सर्वोत्तम अंक कहा गया है.

अंकों से जुडे़ माह | Months Related to the Ank in Ankshastra

सूर्य को सभी बारह राशियों से गुजरने में एक वर्ष अर्थात लगभग 365 दिन का समय लगता है. अंक विद्या में सूर्य की स्थिति के आधार पर हर माह को एक अंक प्रदान किया गया है. इन महीनों की अवधि, सामान्य अवधि से

अंक ज्योतिष में राशियों, ग्रहों तथा अंकों की घनिष्ठता | Importance of Signs, Planets and Numbers in Ankshastra

अंक शास्त्र में सूर्य तथा चन्द्रमा दो ऎसे ग्रह हैं जिन्हें दो अंक प्राप्त हैं. सूर्य तथा यूरेनस का आपस में परस्पर संबंध माना गया है, इसलिए सूर्य को 1 तथा 4 दो अंक प्राप्त है. वास्तविकता में अंक 1

नामांक 9 | What is the Impact of Namank 9 on Your Life

नामांक की गणना अंग्रेजी के अक्षरों को दिये गये अंकों के आधार पर की जाती रही है. नामांक कि गणना के लिए कीरो पद्धति, सेफेरियल पद्धति तथा पाइथागोरस पद्धति का उपयोग किया जाता है, आज भी अंकशास्त्री नामांक

नामांक 8 | What is the Impact of Namank 8 on Your Life

नामांक ज्योतिष एक महत्वपूर्ण विद्या है, जिसके माध्यम से व्यक्ति के विषय एवं उसके भविष्य को जानने का प्रयास किया जाता है. नामांक ज्योतिष में अंकों के माध्यम द्वारा गणित के नियमों का व्यवहारिक उपयोग

नामांक 7 | What is the Impact of Namank 7 on Your Life

जीवन में नाम का बहुत महत्व होता है नाम से ही हमारी पहचान होती है. नाम का महत्व खुद ब खुद दृष्टिगत होता है, तथा नाम रखने की विधि को संस्कार कर्म में रखा जाता है और इसमें जातक के जन्म नक्षत्र पर आधारित

नामांक 6 | What is the Impact of Namank 6 on Your Life

नामांक जीवन में बदलाव ला सकता हैं और हमारे जीवन को आशावादी दिशा प्रदान कर सकता है. नामांक की गणना अंग्रेजी के अक्षरों को दिये गये अंकों के आधार पर की जाती रही है. नामांक कि गणना के लिए कीरो पद्धति,

नामांक 5 | What is the Impact of Namank 5 on Your Life

नामांक की गणना अंग्रेजी के अक्षरों को दिये गये अंकों के आधार पर ही की जाती रही है. आज भी अंकशास्त्री नामांक की गणना इसी प्राचीन तरीके से करते हैं. नामांक कि गणना के लिए कीरो पद्धति, सेफेरियल पद्धति

नामांक 4 | What is the Impact of Namank 4 on Your Life

नामांक की गणना अंग्रेजी के अक्षरों को दिये गये अंकों के आधार पर की जाती रही है. नामांक कि गणना के लिए कीरो पद्धति, सेफेरियल पद्धति तथा पाइथागोरस पद्धति का उपयोग किया जाता है, इनमें से किसी ने नौ अंक

नामांक 3 |What is the Impact of Namank 3 on Your Life

नामांक की गणना अंग्रेजी के अक्षरों को दिये गये अंकों के आधार पर ही की जाती रही है. अंकशास्त्री नामांक की गणना इसी तरीके से करते हैं. नामांक कि गणना के लिए कीरो पद्धति, सेफेरियल पद्धति तथा पाइथागोरस

नामांक 2 | What is the Impact of Namank 2 on Your Life

नामांक को सौभाग्य अंक भी कहते हैं. आज लगभग सभी अंकशास्त्री नामांक की गणना इसी प्राचीन तरीके से करते हैं. नामांक कि गणना के लिए कीरो पद्धति, सेफेरियल पद्धति तथा पाइथागोरस पद्धति का उपयोग किया जाता है,

नामांक 1 | What is the Impact of Namank 1 on Your Life

नामांक की गणना अंग्रेजी के अक्षरों को दिये गये अंकों के आधार पर ही की जाती रही है. व्यक्ति के नाम के अक्षरों के कुल योग से बनने वाले अंक को नामांक कहा जाता है. नामांक गणना के लिए कीरो पद्धति,

नामांक | What is the Impact of Namank on Your Life

अंकशास्त्र में मूलांक (जन्मांक) और भाग्यांक ज्ञात करना बेहद आसान होता है और अधिकतर सभी को मालूम भी होता है कि किस प्रकार इसे प्राप्त कर सकते हैं. लेकिन नामांक को निकाल पाना सभी को नही आता और यह थोड़ा

भाग्यांक 9 | What is the Impact of Bhagyank 9 on Your Life

भाग्यांक, संयुक्त रूप से अंकों को जोड़ कर प्राप्त किया जाता है. भाग्यांक में जन्म तिथि, जन्म माह तथा जन्म वर्ष का योग(जोड़) करना होता है और जो योग प्राप्त होता है वही भाग्यांक कहलाता है जैसे किसी