व्रत तथा त्योहार 2015 | Fasts and Festivals Dates in 2015 | Hindu Festivals Calendar 2015 | Hindu Festivals 2015

जनवरी 2015 के व्रत तथा त्यौहार | Fasts and Festivals Dates in January 2015 | Hindu Festivals Calendar 2015 दिनांक दिन प्रमुख व्रत, त्यौहार व पर्व 1 जनवरी बृहस्पतिवार सन 2015 ईस्वी आरंभ,पुत्रदा एकादशी व्रत 5 जनवरी सोमवार पौष पूर्णिमा, माघ स्नान प्रारंभ 13 जनवरी मंगलवार लोहड़ी...

जनवरी 2015 के व्रत तथा त्यौहार | Fasts and Festivals Dates in January 2015 | Hindu Festivals Calendar 2015

जनवरी 2015 - पौष शुक्ल पक्ष (सूर्य उत्तरायण) | Paush Shukla Paksha (Surya Uttarayan) - January 2015 दिनांक व्रत और त्योहार हिन्दु तिथि 1 जनवरी सन 2015 ईस्वी आरंभ, भद्रा 08:41 तक, पुत्रदा एकादशी व्रत पौष शुक्ल पक्ष एकादशी (11) 2 जनवरी प्रदोष व्रत पौष शुक्ल पक्ष द्वादशी (12) 4 जनवरी भद्रा 09:23 से...

शनि के वृश्चिक राशि में गोचर का प्रभाव | Effect of Saturn’s transit into Scorpio

2 नवम्बर 2014 को शनि वृश्चिक राशि में प्रवेश करने जा रहें और आने वाले ढाई साल तक शनि देव वृश्चिक राशि पर गोचर करते हुए भ्रमण करेंगे. इस दौरान तुला राशि, वृश्चिक राशि और धनु राशि के जातकों पर शनि की साढेसाती का प्रभाव रहेगा. दूसरी ओर मेष और सिंह राशि के जातकों की ढैय्या आरंभ हो जाएगी. शनि पाया विचार | Saturn’s Paya मेष, कन्या और कुम्भ राशि पर सोने का पाया होगा. वृष, सिंह और धनु राशियों पर ताम्र का पाया होगा. मिथुन, तुला और मकर राशियों पर चांदी का पाया...

राहु-केतु का राशि परिवर्तन 2014 - Rahu-Ketu Transit Effect in 2014

12 जुलाई 2014 को रात 21:52 पर राहु कन्या राशि में और केतु मीन राशि में प्रवेश करेंगे. इन दोनों का राशि परिवर्तन के डेढ़ वर्ष के पश्चात हो जाता है. अभी तक यह दोनों तुला राशि और मेष राशि में गोचरस्थ रहे हैं. अब इनके इस समय के राशि परिवर्तन के दौरान कन्या और मीन राशि के जातकों पर विशेष प्रभाव बनने की स्थिति दिखाई देती है. राशि के गोचर का प्रभाव - Sign Transit Effect मेष राशि प्रभाव - Aries sign इस समय आपको संघर्ष के पश्चात ही कुछ सफलता हासिल हो सकती है. इस स्थिति के...

कर्क राशि के गुरू का लग्न पर प्रभाव | Cancer Sign Jupiter Effect in Different Ascendant

गुरू का गोचर मुख्यत स्वराशि, उच्च और नीच राशि स्थिति पर महत्वपूर्ण प्रभाव डालने वाला होता है. जब गुरू कर्क राशि में गोचर करता है तो वह अपनी उच्च स्थिति एवं अनुकूल स्थिति को दर्शाने वाला होता है. इस स्थिति में गुरू के गोचर का प्रभाव जातक के जीवन में कई रूप से प्रभावित करने वाला होता है. गुरू के उच्च्स्थ रूप में विभिन्न लग्नों पर इसका प्रभाव विशेष रूप से पड़ने वाला होता है. गुरू कुण्डली में किसी भी स्थान पर स्थित हों वह अपनी सप्तम, पंचम और नवम दृष्टि से अन्य भावों को अवश्य देखते हैं....

कर्क राशि गुरू के गोचर का विभिन्न राशियों पर प्रभाव । Effects of Cancer Sign Jupiter on Different Signs in 2014

मेष राशि | Aries Sign गुरू के गोचर की स्थिति का प्रभाव मेष राशि के जातकों के लिए मिले जुले फल देने वाला रहेगा. इस समय गोचर के गुरू चंद्रमा से चौथे भाव में गोचर करेंगे जिस कारण जातक पर घर की जिम्मेदारियों का बोझ बना रह सकता है और साथ ही कुछ अतिरिक्त कार्य का दबाव पड़ने के कारण तनाव की स्थिति परेशान कर सकती है. इस समय आप पर गोचर के गुरू का कुछ शुभ प्रभाव होने पर कठिनायों को सुलझाने की बौद्धिकता भी विकसित होगी और साथ ही लोगों के मध्य आपकी स्थिति भी मजबूत बन सकती है. वृष राशि...

गुरू का राशि परिवर्तन 2014 । Changes in Jupiter 2014

19 जून 2014 को गुरू कर्क राशि में 08:45 में प्रवेश करेंगे. कर्क राशि में गुरू उच्च के होते हैं. गुरू इस राशि में बार वर्ष के बाद आ रहे हैं और इस उच्चता में वह काफी अधिक प्रभावशाली होंगे क्योंकि जब कोई ग्रह अपनी उच्च स्थिति में होता है तो उसके प्रभावों में उच्चता का होना संभावित हो जाता है. ग्रह...

मिथुन राशि में मार्गी गुरू का फल | The effect of Jupiter directing in Gemini Sign

6 मार्च 2014 को गुरू मार्गी हो रहें है यह मिथुन राशि में ही रहेंगे. गुरू का मिथुन में ही व्रकी होना और उसके पश्चात मार्गी होकर पुन: अपनी अनुकूल स्थिति में आना कुछ राहत देने वाला होगा. गुरू का वक्री रूप कुछ न कुछ दिक्कतें और परेशानियों का कारण हो सकता है. लेकिन जब वह मार्गी होते हैं तो स्थिति में सुधार की संभावना का आगमन स्वत: ही होने लगता है. यह स्थिति सभी राशियों पर विभिन्न प्रकार से प्रभाव देने वाली रहेगी. मेष राशि - मेष राशि के जातकों की दुविधा का निराकरण होगा...

सूर्य का बृहस्पति के द्रेष्काण में स्थिति का आंकलन | Analysis of Sun In Jupiter Drekkana

ज्योतिष में द्रेष्काण की महत्ता के बारे में विस्तार पूर्वक बताया गया है. द्रेष्काण में किस ग्रह का क्या प्रभाव पड़ता है, इस बात को समझने के लिए ग्रहों की प्रवृति को समझने की आवश्यकता होती है. जिनके अनुरूप फलों की प्राप्ति संभव हो पाती है तथा जिसके फलस्वरूप जातक के जीवन में होने वाली बदलावों और घटनाओं को समझ पाना आसान होता है. ग्रहों की शुभता व क्रूरता का प्रभाव अवश्य पड़ता है जिसके प्रभाव स्वरूप व्यक्ति पर इनका असर होते देखा जा सकता है. सूर्य का बृहस्पति के द्रेष्काण में जाने का...

बुध संबंधित व्यवसाय। Business Related to Mercury

बुध के कारक तत्वों में जातक को कई अनेक प्रकार के व्यवसायों की प्राप्ति दिखाई देती है. बुध एक पूर्ण वैश्य रूप का ग्रह है. व्यापार से जुडे़ होने वाला एक ग्रह है जो जातक को उसके कारक तत्वों से पुष्ट करने में सहायक बनता है. इसी के साथ व्यक्ति को अपनी बौधिकता का बोध भी हो पाता है और उसे सभी दृष्टियों से कार्यक्षेत्र में व्यापार करने वाला बनाता है. बुध राजकुमार है अत: काम में भी यही भाव भी दिखाई देता है. किसी के समक्ष भी यह जातक को कम नहीं होने देता है. अपने काम में व्यक्ति को स्वतंत्रता...

गृह प्रवेश मुहूर्त 2014 | Griha Pravesh Muhurat in 2014 | Griha Pravesh Dates 2014

नए घर में प्रवेश का मुहूर्त पंडित जी द्वारा पंचांग देखकर व व्यक्ति विशेष की कुंडली के लग्नादि का विचार मुहूर्त के लग्न से किया जाता है. उसके बाद जो भी मुहूर्त मेल खाता हो उसका चुनाव कर लिया जाता है. नए घर में वास्तु पूजा शांति, नवग्रह पूजन शांति, स्वस्तिवाचन तथा पंचदेव, गोपूजन आदि करना चाहिए, उसके बाद फिर ब्राह्मणों व दीन दुखियों के भोजन की उचित व्यवस्था करनी चाहिए. साथ ही अपनी सामर्थ्यानुसार दानादि भी करना चाहिए. कन्या पूजन करना चाहिए, जल से भरा कलश लेकर ब्राह्मणों को आगे करके शंख की ध्वनि...

क्रांतिसाम्य काल 2014 | Kranti Samya Kaal 2014 | Kranti Samya Kaal

तालिका के माध्यम से पाठको को सूर्य व चंद्र के सूक्ष्म क्रांतिसाम्य काल के बारे में जानकारी दी जा रही है. इस क्रांतिसाम्य काल को विवाहादि मुहूर्त के लिए वर्जित माना गया है क्योकि इस समय को विवाह के लिए अशुभ माना जाता है, लेकिन मंत्र व यंत्र अनुष्ठान के लिए यह काल शुभ तथा श्रेष्ठ माना गया है. प्रारंभ काल समाप्तिकाल दिनाँक समय (घं. मि.) दिनाँक समय (घं....

सूर्यादि ग्रहों का राशि प्रवेश 2014 | The entry of sun and other planets in sign 2014

सूर्य राशि प्रवेश 2014 | Entry of sun sign in 2014 दिनाँक राशि राशि प्रवेश समय (घं. मि.) 14 जनवरी मकर 13:13 12 फरवरी कुंभ 26:13 14 मार्च मीन 23:06 14...

गुरु पुष्य योग तथा रवि पुष्य योग 2014 | Guru Pushya Yog and Ravi Pushya Yog 2014

गुरु पुष्य योग | Guru Pushya Yog बृहस्पतिवार के दिन यदि पुष्य नक्षत्र हो तब गुरु पुष्य योग बनता है, इस योग को अत्यधिक शुभ माना गया है. इस योग में गुरु, पिता, दादा अथवा किसी श्रेष्ठ व्यक्ति से मंत्र, तंत्र अथवा किसी विशिष्ट विषय से संबंधित उच्च विद्या ग्रहण करना, गुरु धारण करना तथा विदेश यात्रा आरंभ करना शुभ होता है. गुरु पुष्य योग तिथियाँ 2014 | Guru Pushya Yog Dates in 2014 प्रारंभ काल <th...

ग्रहों की अंशात्मक युतियाँ 2014 | Planetary Degree Conjunction in 2014 | Conjunction of Planets 2014

ग्रहों की अंशात्मक युतियाँ | Planetary Degree Conjunction 8 जनवरी 2014, बुध व शुक्र की धनु राशि में 11 जनवरी 2014, सूर्य व शुक्र की धनु राशि में 15 फरवरी 2104, सूर्य व बुध की कुंभ राशि में 10 अप्रैल 2104, बुध व शुक्र कुंभ राशि में 26 अप्रैल 2014, सूर्य व बुध मेष राशि में 20 जून 2014, सूर्य व बुध मिथुन राशि में 13 जुलाई 2014, मंगल व राहु कन्या राशि में 25 जुलाई 2014, सूर्य व गुरु कर्क राशि...

द्विपुष्कर और त्रिपुष्कर योग 2014 | Dwipushkar and Tripushkar Yoga Dates in 2014 | Dwipushkar and Tripushkar Yoga

द्विपुष्कर और त्रिपुष्कर योगों के मुहूर्त को गाड़ी, आभूषण तथा अन्य बहुमूल्य वस्तुओं के खरीदने के लिए विशेष रुप से उपयोगी माना गया है. जैसे - जमीन, जायदाद, भूमि, हीरे जवाहरात, सोने व चाँदी के आभूषण, वाहन, पशु क्रय करना, नवीन उद्योगों की स्थापना करना आदि कार्य इन दोनों ही योगों में लाभदायक रहते हैं. इन योगों में किया गया कोई भी काम दुगुना व तिगुना हो जाता है. इन योगों में यदि किसी तरह का कोई अनिष्ट हो जाए तब वह भी दुगुना अथवा तिगुना ही होने की संभावना रहती है. त्रिपुष्कर योग की शांति...

मुंडन मुहूर्त्त 2014 | Mundan Muhurat in 2014 | Auspicious Mundan Dates 2014 | Mundan Sanskar Muhurat 2014

प्राचीन समय से ही भारतीय वैदिक ज्योतिष में अनेक प्रकार के मुहुर्तो का उल्लेख हमारे ऋषि-मुनियों ने दिया हुआ है. सोलह संस्कारों के अन्तर्गत बच्चे के मुंडन का भी मुहूर्त्त होता है. वर्ष 2014 में मुंडन मुहूर्त की तिथियाँ निम्नलिखित हैं :- मुंडन मुहूर्त जनवरी 2014 | Mundan Muhurat January 2014 दिनाँक वार नक्षत्र हिन्दु माह प्रविष्टे मुहूर्त विवरण 22...

यमघंटक योग 2014 | Yamghantak Yoga 2014 | Dates of Formation of Yamghantak Yoga in 2014

क्रकच योग, संवर्त योग, दग्ध योग, कुलिक योग, उत्पात योग तथा यमघंटक योग आदि सभी प्रकार के शुभ कामों के लिए अशुभ व त्याज्य माने गए हैं. ऋषि वशिष्ठ जी के अनुसार दिन के समय में यमघंटक आदि योग अधिक कष्टकारी होते हैं, लेकिन रात में इनका फल ज्यादा अशुभ नहीं माना जाता है. यदि इन कुयोगों के समय कोई सुयोग हो तब यह कुयोग भंग हो जाते हैं. वर्ष 2014 में यमघंटक योग तिथियाँ | Dates of Formation of Yamghantak Yog 2014 प्रारंभ...

ज्वालामुखी योग 2014 | Jwalamukhi Yog 2014 | Dates of Formation of Jwalamukhi Yoga in 2014

वैदिक ज्योतिष में ज्वालामुखी योग का फल बहुत अशुभ माना गया है. यदि कोई व्यक्ति इस योग में अपना काम आरंभ करता है तब वह पूरी तरह से कभी सिद्ध नहीं हो पाता है या फिर बार-बार बाधाओं व विघ्नों का सामना करना पड़ता है. इस योग में कोई भी शुभ काम आरंभ नहीं करना चाहिए,...

रवि योग 2014 | Ravi Yoga 2014 | Ravi Yoga 2014 Dates

यदि कभी किसी व्यक्ति को अत्यधिक महत्वपूर्ण काम करना हो और उसे कोई योग ना मिल रहा हो तब रवि योग में वह काम किया जा सकता है. रवि योग की उपलब्धता में किसी भी प्रकार के कुयोग का नाश होता है और शुभ रवि योग शुभ फल प्रदान करता है. जनवरी 2014 में रवि योग की तिथियाँ | Ravi Yoga Dates in January 2014 प्रारंभ काल समाप्तिकाल दिनाँक समय (घं....