Zircon

यह हीरे का उपरत्न है. जर्कन को हिन्दी में तुरसावा कहते हैं. अंग्रेजी में हायसिंथ और जेसिन्थ कहते हैं. जर्कन उपरत्न अपने आप में एक महत्वपूर्ण रत्न है. इसका बहुत ही पुराना ऎतिहासिक महत्व भी है. इसका उपयोग हजारों वर्षों से किया जा रहा है. इसका उपयोग हीरे के प्रतिरुप में किया जाता है. यह उपरत्न कई रंगों में उपलब्ध है. जैसे पीला, जामुनी, भूरा, सफेद, नीला, लाल, हरा, संतरी, रंगहीन आदि. सबसे अधिक इसे सफेद अथवा रंगहीन क्रिस्टल के रुप में इस्तेमाल किया जाता है. रंगहीन जर्कन देखने में हीरे का प्रतिरुप दिखाई देता है.

यह एक तेजस्वी उपरत्न है. हीरे के सभी गुण इसमें पाए जाते हैं. यह इतना अधिक चमकीला होता है कि देखने वाले इसे हीरा ही समझते हैं. इसमें अनेक गुण मौजूद हैं. जिन्हें अनिद्रा, चर्मरोग, बवासीर, जलोदर, चर्मरोग आदि की बीमारी है वह व्यक्ति जर्कन को पहन सकते हैं. इसके अतिरिक्त भौतिक सुख सुविधाओं के लिए भी इस उपरत्न को धारण किया जाता है. मान-सम्मान की प्राप्ति होती है.

कौन धारण करे | Who Should Wear Zircon? - Should I Wear Zircon Sub-Stone?

जिन व्यक्तियों की कुण्डली में शुक्र शुभ भावों का स्वामी है और अशुभ भावों में स्थित है अथवा कुण्डली में शुक्र शुभ ग्रह होकर पीड़ित अवस्था में है वह व्यक्ति जर्कन धारण कर सकते हैं.

कौन धारण नहीं करे | Who Should Not Wear Zircon?

माणिक्य, मोती तथा पुखराज रत्नों अथवा इनके उपरत्नों को धारण करने वाले व्यक्तियों को जर्कन उपरत्न धारण नहीं करना चाहिए.

अगर आप अपने लिये शुभ-अशुभ रत्नों के बारे में पूरी जानकारी चाहते हैं तो आप astrobix.com की रत्न रिपोर्ट बनवायें. इसमें आपके कैरियर, आर्थिक मामले, परिवार, भाग्य, संतान आदि के लिये शुभ रत्न पहनने कि विधि व अन्य जानकारी भी साथ में दी गई है आपके लिये शुभ रत्न - astrobix.com