आधुनिक समय में सभी अपनी शिक्षा का स्तर उच्च रखने की चाह रखते हैं. अभिभावक भी अपने बच्चो की शिक्षा को लेकर चिन्तित रहते हैं. प्राचीन समय में ब्राह्मण का कार्य शिक्षा प्रदान करना था. विद्यार्थीगण आश्रम में रहकर शिक्षा ग्रहण करते थे. लेकिन समय के साथ धीरे-धीरे शिक्षा के क्षेत्र में काफी बदलाव आया है. वर्तमान समय में तो विद्या का स्वरुप बहुत बदल गया है. आज अच्छी आजीविका पाने के लिए अच्छी शिक्षा ग्रहण करना आवश्यक समझा जाता है. जबकि विद्यार्थियों को उनकी क्षमतानुसार तथा उनकी मानसिकता के अनुसार शिक्षा प्राप्त करानी चाहिए. जो आगे चलकर उनके आजीविका प्राप्ति में सहायक सिद्ध हो सके.

आधुनिक समय में बच्चा शिक्षा कुछ पाता है और आगे चलकर व्यवसाय कुछ होता है. ज्योतिष के आधार पर बच्चे की शिक्षा के क्षेत्र में सहायता की जा सकती है. शिक्षा का आंकलन करने के लिए शिक्षा से जुडे़ भावों का आंकलन करना आवश्यक है. कुण्डली के दूसरे, चतुर्थ तथा पंचम भाव से शिक्षा का प्रत्यक्ष रुप में संबंध होता है. आइए इन भावों का विस्तार से अध्ययन करें.

द्वित्तीय भाव | Second House

इस भाव को कुटुम्ब भाव भी कहते हैं. बच्चा पांच वर्ष तक के सभी संस्कार अपने कुटुम्ब से पाता है. पांच वर्ष तक जो संस्कार बच्चे के पड़ जाते हैं, वही बाकी जीवन की आधारशिला बनते हैं. इसलिए दूसरे भाव से परिवार से मिली शिक्षा अथवा संस्कारों का पता चलता है. इसी भाव से पारीवारिक वातावरण के बारे में भी पता चलता है. बच्चे की प्रारम्भिक शिक्षा के बारे में इस भाव की मुख्य भूमिका है. जिन्हें बचपन में औपचारिक रुप से शिक्षा नहीं मिल पाती है, वह भी जीवन में सफलता इसी भाव से पाते हैं. इस प्रकार बच्चे की एकदम से आरंभिक शिक्षा का स्तर तथा संस्कार दूसरे भाव से देखे जाते हैं.

चतुर्थ भाव | Fourth House

चौथा भाव कुण्डली का सुख भाव भी कहलाता है. आरम्भिक शिक्षा के बाद स्कूल की पढा़ई का स्तर इस भाव से देखा जाता है. इस भाव के आधार पर ज्योतिषी भी बच्चे की शिक्षा का स्तर बताने में सक्षम होता है. वह बच्चे का मार्गदर्शन, विषय चुनने में कर सकता है. चतुर्थ भाव से उस शिक्षा की नींव का आरम्भ माना जाता है, जिस पर भविष्य की आजीविका टिकी होती है. अक्षर के ज्ञान से लेकर स्कूल तक की शिक्षा का आंकलन इस भाव से किया जाता है.

पंचम भाव | Fifth House

पंचम भाव को शिक्षा में सबसे महत्वपूर्ण भाव माना गया है. इस भाव से मिलने वाली शिक्षा आजीविका में सहयोगी होती है. वह शिक्षा जो नौकरी करने या व्यवसाय करने के लिए उपयोगी मानी जाती है, उसका विश्लेषण पंचम भाव से किया जाता है. आजीविका के विषय में सही विषयों के चुनाव में यह भाव महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है.

शिक्षा प्रदान करने वाले ग्रह | Planets Helpful in Imparting Education

बुध ग्रह को बुद्धि का कारक ग्रह माना गया है. गुरु ग्रह को ज्ञान का कारक ग्रह माना गया है. बच्चे की कुण्डली में बुध तथा गुरु दोनों अच्छी स्थिति में है तब शिक्षा का स्तर भी अच्छा होगा. इन दोनों ग्रहों का संबंध केन्द्र या त्रिकोण भाव से है तब भी शिक्षा क स्तर अच्छा होगा.

वर्ग कुण्डलियों से शिक्षा का आंकलन | Category of Horoscope in Assessment of Education

अभी तक शिक्षा से जुडे़ भाव तथा ग्रहों के विषयों में जानकारी प्राप्त की गई है. लेकिन इन भावों के स्वामी और शिक्षा से जुडे़ ग्रहों की वर्ग कुण्डलियों में स्थिति कैसी है? इसका अध्ययन करना भी बहुत आवश्यक होता है. कई ���ार जन्म कुण्डली में सारी स्थिति बहुत अच्छी होती है, लेकिन फिर भी शिक्षा का स्तर बहुत अच्छा नहीं होता है. क्योंकि वर्ग कुण्डलियों में संबंधित भाव तथा ग्रह कमजोर अवस्था में स्थित होते हैं.

शिक्षा के लिए नवाँश कुण्डली तथा चतुर्विंशांश कुण्डली का उपयोग अवश्य करना चाहिए. जन्म कुण्डली के पंचमेश की स्थिति इन वर्ग कुण्डलियों में देखनी चाहिए. चतुर्विशांश कुण्डली को डी - 24 तथा सिद्धांश भी कहा जाता है.

अपने भाग्य के विषय में जानकारी प्राप्त करने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें: भाग्य रिपोर्ट